Get Free Consultation Call Now 9599686887

भाई दूज 2023: भाई दूज कब है, जानिए शुभ मुहूर्त

भाई दूज 2023: भारतीय संस्कृति और परंपराओं का एक महत्वपूर्ण हिस्सा भाई दूज है, जिसे विशेष रूप से भारत और नेपाल में मनाया जाता है। यह त्योहार भाई-बहन के प्यार और आपसी रिश्तों का महत्वपूर्ण उत्सव है, जो वर्षिक रूप से कार्तिक महीने के कृष्ण पक्ष की द्वादशी तिथि को मनाया जाता है। यह वर्ष 2023 में भाई दूज 15 नवंबर को आएगा। इसे भारत वर्ष के विभिन्न हिस्सों में विभिन्न नामों से मनाया जाता है, जैसे यम द्वितीय, भाई तिका आदि।

भाई दूज का अर्थ

2023 भाई दूज, भारतीय संस्कृति में भाई-बहन के प्यार और आपसी रिश्तों का उत्सव है। यह त्योहार बहन अपने भाई की लंबी आयु, खुशी, और समृद्धि की कामना करती है और उसके पांवों को गीले मिटाती है। भाई उसे आशीर्वाद और वरदानों के रूप में स्वीकार करता है। इस दिन बहनें अपने भाइयों को विशेष रुप से तैयार किए गए वस्त्र और रसोई के नए व्यंजनों से प्रसन्न करती हैं।

2023 भाई दूज की आधिकारिक तारीख

भाई दूज या यम द्वितीय, दिवाली के आधे महिने बाद आने वाला है और इसका महत्व भारतीय समाज में बहुत अधिक है। इस दिन बहन अपने भाई की लम्बी आयु और सुख-शांति की कामना करती हैं और भाई अपनी बहन के प्रति अपने प्यार को प्रकट करते हैं।

तारीख और समय: भाई दूज 2023

इस वर्ष, भाई दूज 2023 की तारीख 15 नवंबर है। यह पर्व द्वितीय तिथि को मनाया जाता है, और इसका महत्वित्व द्वितीय तिथि को होता है क्योंकि इसी दिन यमराज अपनी बहन , यमुना की भगवान विष्णु के आवश्यक रूप में उसका संरक्षण करने के लिए उसके पास आए थे।

भाई दूज 2023 की आधिकारिक तारीख
आधिकारिक तारीख

भाई दूज 2023 की महत्वपूर्ण परंपराएँ

बहन के पास भूतपूर्व

इस दिन बहन अपने भाई का स्वागत विशेष ढंग से करती हैं और उनके पास बड़े प्यार भरे मन से अपने भाई की आराधना करती हैं। उनकी इस आराधना के साथ, वे अपने भाई के लिए अक्षत और तिलक तैयार करती हैं।

आराधना भाई की

भाई दूज के दिन, भाई अपनी बहन की आराधना करते हैं और उनके पास जाकर उनके प्यार की प्रति अपनी आराधना करते हैं। वे अपनी बहन के पास गिफ्ट लेकर आते हैं और इससे बहन की खुशियों को दोगुना कर देते हैं।

भाई दूज 2023 की महत्वपूर्ण परंपराएँ
महत्वपूर्ण परंपराएँ

भाई दूज 2023 का शुभ मुहूर्त

प्रात:काल और सुबह:काल

भाई दूज के लिए प्रात:काल से सुबह:काल तक का समय शुभ माना जाता है। इस समय बहन अपने भाई की आराधना करती हैं और उनके प्यार की कामना करती हैं।

धनतेरस और भाई दूज के बीच का संबंध

धनतेरस के तीसरे दिन भाई दूज को मनाया जाता है। इसलिए, धनतेरस के दिन भी भाई दूज के लिए उत्तम माना जाता है।

भाई दूज के आचरण और महत्व

विभिन्न राज्यों में भाई दूज

भाई दूज को भारत के विभिन्न हिस्सों में विभिन्न नामों से मनाया जाता है। उदाहरण के लिए, इसे नेपाल में ‘भाई टिका’, गुजरात में ‘भाई बीज’, बंगाल में ‘भाई पोटा’ और अन्य राज्यों में विभिन्न नामों से जाना जाता है।

परंपरागत भोज

कुछ स्थानों पर भाई दूज के दिन बहन अपने भाई के लिए विशेष भोज तैयार करती हैं। यह भोज भाई-बहन के प्यार और भरोसे का प्रतीक होता है।

भाई दूज के आचरण और महत्व
आचरण और महत्व

भाई दूज 2023 का महत्व

आपसी स्नेह का प्रतीक

भाई दूज एक विशेष रूप से भाई-बहन के प्यार और आपसी समर्थन का प्रतीक है। इस दिन भाई-बहन एक दूसरे के साथ विशेष समय बिताते हैं और आपसी स्नेह को महसूस करते हैं।

धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व

भारतीय संस्कृति में एक महत्वपूर्ण त्योहार है जो परिवार और समाज के आपसी बंधनों को मजबूत करता है। इसके माध्यम से समाज को एकता और सद्भावना की भावना से जुड़ा रहने का एक अद्वितीय अवसर प्राप्त होता है।

धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व| Bhai dooj 2023|
धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व

भाई दूज 2023 के शुभ मुहूर्त

भाई दूज का उत्सव वर्ष 2023 में 15 नवंबर को मनाया जाएगा। यह तिथि कृष्ण पक्ष की द्वादशी है और इस दिन सूर्य और चंद्रमा दोनों अधिक शुभ स्थिति में होते हैं। इसलिए, भाई दूज के लिए यह एक अत्यंत शुभ मुहूर्त है जिसमें आपसी आदर और प्यार का आदान-प्रदान किया जा सकता है।

आयोजन

भाई दूज के इस खास दिन, बहनें अपने भाई को स्वर्ण, रजत, या चांदी की तिलक लगाती हैं और उनकी लम्बी आयु की कामना करती हैं। यह एक आपसी आदर और विश्वास का पर्व है जिसमें भाई बहन एक-दूसरे के साथ वक्त बिताते हैं और आपसी आदर को महसूस करते हैं।

उपहार

भाई दूज के इस अवसर पर बहनें अपने भाई को उपहार भेंट करती हैं। ये उपहार भाई-बहन के प्यार और आपसी संबंधों को और भी मजबूत बनाते हैं। आमतौर पर मिठाई, वस्त्र, और शुभकामनाओं के साथ-साथ कुछ विशेष उपहार भी दिए जाते हैं।

निष्कर्ष: भाई दूज का आदान-प्रदान

भाई दूज भारतीय संस्कृति में एक महत्वपूर्ण और प्रिय त्योहार है जो भाई-बहन के प्यार और आपसी समर्थन को महसूस कराता है। इस दिन को ध्यान में रखते हुए भाई बहन एक-दूसरे के साथ समय बिताते हैं और आपसी स्नेह का आदान-प्रदान करते हैं। भाई दूज 2023 को खास बनाने के लिए अपने भाई-बहन के साथ खास पलों का आनंद लें और उन्हें आशीर्वाद और प्यार दे।

शुभ फल पाने के लिए अपनी जन्म कुंडली अनुसार वास्तु एवं पूजा करवाए। यह बहुत ही लाभदायक साबित हो सकता है और आपका भाग्या पूरी तरह बदल सकता है। अगर पूरे विधि विधान के साथ किसी विश्व प्रसिद्ध ज्योतिष आचार्य  और वास्तुशास्त्र की मदद से कुंडली अनुसार पहना जाए तो। आप किसका इंतज़ार कर रहे है, अपने पूजा को और भी लाभदायक बनाने के लिए अभी संपर्क करे इस (+91)9971-000-226 पर।

Shopping cart

0
image/svg+xml

No products in the cart.

Continue Shopping